Ads

Good Night Shayari -गुड नाईट शायरी

          Good Night Shayari -गुड नाईट शायरी  


ये सितारे चाहतें है की रात आये,
हम लिखे जो आपका जबाब आये,
सितारों की चमक तो नही है मुझ में,
लेकिन हम ऐसा क्या करें,




यादों को तेरी हम प्यार करते हैं, 
सारे जन्म भी तुझ पर जान निसार करते हैं, 
फुर्सत मिले तो हमे SMS करना, 
क्योंकि रोज़ रात हम तेरे Good Night 
कहने का इंतज़ार करते हैं।




जब भी आपके बिना रात होती हैं, 
तब दीवारों से अक्सर बात होती हैं, 
सन्नाटा पूछता हैं हमारा हाल हमसे, 
तो आपके नाम से ही शुरुआत होती हैं



कितनी जल्दी ये शाम आ गई, 
गुड नाइट कहने की बात याद अा गई,
 हम तो बैठे थे सितारों की महफिल में, 
चांद को देखा तो आपकी याद आ गई। 
शुभ रात्रि




जैसे चाँद का काम है रात में रौशनी देना, 
तारों का काम है सारी रात चमकते रहना,
 दिल का काम है अपनों की याद में धड़कते रहना, 
हमारा काम है आपकी सलामती की दुआ करते रहना।
 । शुभ रात्रि



मिलने आयेंगे हम आपसे ख्वाबों में, 
ये ज़रा रौशनी के दीये बुझा दीजिए, 
अब नहीं होता इंतज़ार आपसे मुलाकात का,
 ज़रा अपनी आँखों के परदे तो गिरा दीजिए । 
। शुभ रात्रि ।



हर सपना कुछ पाने से पूरा नहीं होता, 
कोई किसी के बिन अधूरा नहीं होता,
 जो चाँद रौशन करता है रात भर सब को,
 किसी रात वो भी तो पूरा नहीं होता। 



सितारों को भेजा है आपको सुलाने के लिए, 
चाँद आया है आपको लोरी सुनाने के लिए,
 सो जाओ मीठे ख़्वाबों में आप... 
सुबह सूरज को भेजेंगे आपको जगाने के लिए ।
 । शुभ रात्रि ।



मीठी-मीठी यादों को दिल में सजा लेना, 
साथ गुजारे पल को पलकों में बसा लेना,
 दिल को फिर भी न मिले सुकून तो,
 मुस्कुरा के मुझे अपने सपनों में बुला लेना । 
। शुभ-रात्रि ।



इस रात के चांद की चांदनी आपके आंगन को सजाए, 
यह टिम टिम करते तारे आपके कानों में कुछ गुनगुनाए, 
आपकी नींद में इतने प्यारे ख्वाब आए,
 कि आप अपने नींद में भी होले होले मुस्कुराए!
 शुभ रात्रि




हजारों दिया को एक ही दिए से बिना 
उसका प्रकाश कम किए “जलाया जा सकता है” 
खुशी बांटने से खुशी कभी कम नहीं होती 
शुभ रात्रि



हम अपनों से खफा हो नहीं सकते 
प्यार के रिश्ते बेवफा हो नहीं सकते 
तुम हमें भुला कर भले ही सो जाओ 
हम तुम्हें याद किए बिना सो नहीं सकते.
 शुभ रात्रि



हमें सुलाने की खातिर रात आती है,
 हम सो नहीं पाते रात और हो जाती है
 हमने पूछा दिल से तो यह आवाज आई 
आज दोस्त को याद कर ले रात तो रोज आती है… 
शुभ रात्रि



कोई कहता है चांद है 
सबसे प्यारा कोई कहता है
 सितारा है सबसे प्यारा
 मेरे ख्याल से वही है 
सबसे प्यारा जो Message पढ रहा है




नींद का साथ हो, सपनों की बारात हो चांद सितारे भी साथ हो 
और कुछ रहे न रहे पर हमारी याद आपके साथ हो… 
शुभ रात्रि




निकल आया चांद, बिखर गए सितारे, 
सो गए पंछी, सो गए नजारे, 
खो जाओ तुम भी मीठे ख्वाबों में, 
और देखो सपने प्यारे





देखो फिर रात आ गयी गुड नाईट कहने की बात याद आ गयी 
हम बैठे थे सितारों की पनाह में चाँद को देखा तो आपकी याद आ गयी     
शुभ रात्रि




ऐसा लगता है कुछ होने जा रहा है
 कोई मीठे सपनो में खोने जा रहे है
 धीमी करदे अपनी रोशनी ऐ चाँद 
मेरा दोस्त अब सोने जा रहे है 
 शुभ रात्रि



हो चुकी रात अब सो भी जाइए जो है
 दिल के करीब उनके ख्यालों में खो 
जाइए कर रहा होगा कोई इंतज़ार 
आपका ख़्वाबों में ही सही उनसे मिल तो आइए



सितारे चाहते हैं की रात आये 
हम क्या लिखें की आपका जवाब आये
 सितारों जैसी चमक तो नही मुझमे 
हम क्या करें की हमारी याद आये “
शुभ रात्रि



हर रात मैं भी आपके पास उजाला हो 
हर कोई आपका चाहने वाला हो 
वक़्त गुजर जाये उनकी यादो के सहारे हो 
ऐसा कोई आप के सपनो को सजाने वाला हो 
“शुभ रात्रि



मीठी मीठी याद पलकों मैं सजा लेना 
साथ गुज़रे पल को दिल मैं बसा लो 
दिल को फिर भी न मिले सुकून तो 
मुस्कुरा कर मुझे सपनो मैं बुला लेना 
“शुभ रात्रि




रब तू अपना जलवा दिखा दे 
उनकी ज़िन्दगी कोई भी अपने नूर से सजा दे 
रब मेरे दिल की ये दुआ हैं 
मालिक मेरे दोस्त के सपने हकीक़त बना दे 
“शुभ रात्रि 



काश कि तु चाँद और मैं सितारा होता;
 आसमान में एक आशियाना हमारा होता; 
लोग तुम्हे दूर से देखते;
 नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता



जिन्दगी एक रात है,
 जिस में ना जाने कितने ख्वाब हैं, 
जो मिल गया वो अपना है, 
जो टुट गया वो सपना है,
 ये मत सोचो की जिन्दगी में कितने पल है, 
ये सोचो की हर पल में कितनी जिन्दगी है,
 इसलिए… जिन्दगी को जी भर कर जी लो




आज कितने दिनों के बाद हुई ये बरसात हैं 
याद दिलाती आपकी हर एक बात हैं 
मुझे मालूम हैं आपकी आँखों मैं हैं 
नींद आप चैन से सो जाओ कितनी हसीं रात हैं 
“शुभ रात्रि 




चाँद भी तो देखो तुम्हें तक रहा हैं 
सितारे भी थमे थमे से लग रहे हैं
 जरा मुस्कुरा दो हम सब के लिए 
हम भी तो तुम्हें शुभ रात्रि कह रहें हैं “
शुभ रात्रि 




उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती है 
उसकी प्यारी आँखे हमे दुनिया भुला देती है
 आएगी आज भी वो मेरे स्वप्नों में यारों
 बस यही उम्मीद हमे रोज़ सुला देती है …
! शुभ 



ऐसी हसीं आज बहारो की रात हैं 
एक चाँद आसमा पैर हैं एक मेरे पास हैं 
देने वाले ने कोई कमी ना की किसको 
क्या मिला ये मुकद्दर की बात हैं 
“शुभ रात्रि




चाँद को बैठाकर पहरों पर; 
तारों को दिया निगरानी का काम; 
एक रात सुहानी आपके लिए; 
एक स्वीट सा ‘ड्रीम’ आपकी आँखों के नाम! 
शुभ रात्रि!



काश कि तु चाँद और मैं सितारा होता;
आसमान में एक आशियाना हमारा होता;
लोग तुम्हे दूर से देखते;नज़दीक़ से 
देखने का हक़ बस हमारा होता।



तेरे बिना कैसे गुज़रेंगी ये रातें,
 तन्हाई का ग़म कैसे सहेंगी ये रातें... बहुत लंबी हैं 
घड़ियां इंतज़ार की, करवट बदल- बदल कर कैसे कटेंगी ये रातें






कभी कभी पत्थर की ठोकर से भी नहीं आती खरोच 
और कभी छोटी सी बात से इन्सान बिखर जाता है|
 Good Nigh



चाँद को बैठाकर पहरों पर;
 तारों को दिया निगरानी का काम;
 एक रात सुहानी आपके लिए; 
एक स्वीट सा ‘ड्रीम’ आपकी आँखों के नाम!
 शुभ रात्रि



चाँद है ओर चाँदनी रात है, होती सितारो से तेरी बात है,
 होती है हमारी हर रात प्यारी इसलिए, 
क्योकि तुम्हारी प्यारी प्यारी याद हमारे साथ है!!
 **Good Night My Love




तेरे ख्वाबो में आज आऊंगा मै, 
तेरे दिल में उतर जाऊंगा मै, 
बना के आज तुझे अपना, 
तुझे तुझ से ही चुरा ले जाऊंगा मै



उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती है 
उसकी प्यारी आँखे हमे दुनिया भुला देती है 
आएगी आज भी वो मेरे स्वप्नों में यारों बस
 यही उम्मीद हमे रोज़ सुला देती है …! 
शुभ रात्रि