Hindi Shayari हिंदी शायरी

                                             Hindi Shayari  हिंदी शायरी 

सुना है कोई और भी चाहने लगा है
तुझको हमसे बढ़कर अगर चाहे 
तो उसी की हो जाना

Hindi Shayari

अब ना मैं हूं ना बाकी है जमाने मेरे
 फिरभी मशहूर हैं शहरों में फंसाने मेरे 
जिंदगी है तो नए जख्म भी लग जाएंगे 
अब भी बाकी है कई दोस्त पुराने मेरे


चलते हैं दबे पाव कोई जाग न जाए 
गुलामी के असीरों की यही खास अदा होती है  
नहीं जो कौम हक बात पर यकजा 
कौम का हाकिम ही बस उसकी सजा है


तुम्हें रिश्तो पर जो है वो भरम सब टूट जाएगा 
तुम ही पर डालकर मिट्टी तुम ही पर हाथ झाड़ेंगे


जिंदगी वो किताब है जो कभी नहीं पढ़ी जा सकती
लेकिन जमाना वो उस्ताद है जो सब कुछ सिखा देता है


सलाम दुआ में ही चलती हैं 
बातें अब हमारी ना खैरियत 
वो पूछते हैं ना हाल हम बताते हैं


बड़े महंगे किरदार हैं जिंदगी में साहेब 
समय-समय पर सब के भाव बढ़ जाते हैं


उसकी फितरत है वो दर्द देने की रस्म अदा कर रहे है
हम भी उसूलों के पक्के हैं दर्द सहकर भी वफा कर रहे हैं


थोड़ा सा और निखर जाऊं यही मैंने ठानी है 
ऐ जिंदगी थोड़ा रुक अभी मैंने हार कहां मानी है


कितना चाहता हूं तुझे मुझे बताना नहीं आता 
बस इतना जानता हूं मुझे तेरे बिन रहना नहीं आता


कैसे कह दूं कि महंगाई बहुत है मेरे शहर के
 चौराहे पर एक रुपए में कई दुआ मिल जाती है


                                 Shayari For Hindi 


सूरज ढला तो कद से ऊंचे हो गए साए 
कभी पैरों से रौंदी थी यहीं परछाईया हमने
Hindi Shayari 

गर लिखूं इश्क तो करूं कब 
और करो इश्क तो लिखो कब


झांकने की कुछ बेहतरीन जगहों में से
 एक जगह है अपना गिरेबान भी है


आदत सी लग गई है तुम्हें बार बार देखने की 
 अब इसे प्यार कहते हैं या पागलपन ये पता नहीं


कोई नहीं है दुश्मन अपना फिर भी परेशान हूं मैं 
अपने ही क्यों दे रहे हैं जख्म इस बात से हैरान हूं मैं


हुनर होगा तो दुनिया कद्र करेगी खुद ही
 एड़ीया उठाने से किरदार ऊंचे नहीं होते


होता होगा हुनर चुप रहने का लोगों 
में साफ-साफ कहने का तो ऐब है मुझमें


तेरी मेरी मोहब्बत पर लोग क्या सोचेंगे 
यह भी हम सोचेंगे तो लोग क्या सोचेंगे


प्यार इतना ही रखो कि दिल संभल जाए 
अब इस कदर भी ना चाहो कि दम निकल जाये


उदास आपको देखने से पहले यह आंखें ना रहे 
खफा आप हो हमसे तो ये हमारी सांसे न रहें 
अगर भूले से भी गम दिए हमने आपको 
आपकी जिंदगी में हम क्या हमारी यादें भी न रहे


प्यार का बदला कभी ना चुका सकेंगे 
चाह कर भी आपको भुला ना सकेंगे 
तुम ही मेरे लबों की हंसी तुमसे 
मिले तो फिर मुस्कुरा न सकेंग

Shayari Hindi


लू भी चलती थी जो बादे सबा कहते थे 
पांव फैलाए अंधेरो को दिया कहते थे 
उनका अंजाम मुझे याद नहीं है शायद 
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे

Hindi Shayari 



मस्त नजरों से देख लेना था अगर तमन्ना थी
आजमाने की हम तो बेहोश यू ही हो  
जाते क्या जरूरत थी मुस्कुराने की



उलझन भरे दिन है मेरे तनहा है मेरी रातें दे जाती है
जख्म मुझ मुझे तेरी वो  तीखी बातें हम भी बढ़कर थाम लेते 
तेरा दामन जो तूने हमको अगर रुलाया ना होता तेरी नजरों के
 हम भी एक नजारे होते जो तूने अपनी नजरों में हमें बसाया होता


पहली झलक में मैंने पसंद तुझको किया बिन
बोले तुझसे आंखों ने सब कुछ कह दिया दूसरी है 
अब मुलाकात मैं तुमसे मेरे दिल को छू लिया फिर
 बिन बोले दिल की डोर को मैंने तुम्हारे हवाले कर दिया


तुम अपनी शाम की तन्हाईयां मुझे दे दो 
बिखरती जुल्फों की परछाइयां मुझे दे दो 
मैं डूब जाऊं तुम्हारी आंखों में तुम अपने दर्द की 
गहराइयां मुझे दे दो मैं तुम्हें याद करूं और तुम को 
खबर हो जाए मोहब्बत की वो सच्चाईया मुझे दे दो


हर पल हर लम्हा हम होते बेकरार हैं 
तुझसे दूर होते हैं तो लगता है लाचार हैं 
बस एक बार देखो आंखों में मेरी मेरे
 इस दिल में तेरे लिए कितना प्यार है


रब से आपकी खुशियां मांगते हैं 
दुआओं में आपकी हंसी मांगते हैं 
सोचते हैं आपसे क्या मांगे चलो 
आपसे उम्र भर की मोहब्बत मांगते हैं


तेरी नाराजगी जायज है मैं
खुद से खुश नहीं हूं आज कल


तू चांद मैं सितारा होता आसमान में 
एक आशियाना हमारा होता लोग 
तुझे दूर से देखा करते और सिर्फ 
पास रहने का हक हमारा होता


जिंदगी आप पर हस्ती है जब आप दुखी होते हैं 
जिंदगी आप पर मुस्कुराती है जब आप खुश होते हैं
 लेकिन जिंदगी आपको सलाम करती है 
जब आप दूसरों को खुश करते हैं


बोलकर झूठ बना लेते हैं हम भी तमाम रिश्ते मगर 
चुन लिया हमने सच बोलकर तनहाई भरा सफर


Shayari To Hindi 


भूले हैं रफ्ता-रफ्ता उन्हें मुद्दतों में हम
किश्तों में खुदकुशी का मज़ा हमसे पूछिए
Hind Shayari 



सच कहने का अगर शौक है तो 
तन्हा चलने का हौसला भी रखना


होटों पर एक शरारती मुस्कान रखते हैं 
हम आज भी थोड़ा बचपन साथ रखते हैं
 उम्र का तो काम ही है बढ़ते जाना ये 
कमबख्त दोस्ती है जो जो हमें जवान रखते है


फुर्सत मिले तो कुछ लिख भेजना एक 
तेरी ही मैसेज का इंतजार कर रही हूं मैं


मुकद्दर कहां है बदलता है हमारे चाहने से 
लेकिन हम जरूर बदल जाते हैं किसी को चाहने से


बूढ़े फकीर को मिली दर बदर की ठोकरें 
सिक्के उसे मिले जो भिखारिन जवान थी


लिखूं क्या नजम कोई तुझ पर गजल का खुद लिबास है
 मुकम्मल इश्क में डूबे हुए शायर का तू लफ्ज ए  खास है


ख्वाबों के पीछे जिंदगी उलझा ली इतनी
 की हकीकत में रहने का सलीका ही भूल गए


हमने दुनिया के तमाम शहर देखे हैं साहब 
पर मेरा गांव उसकी आंखों में बसता है


नज़र से क्यों जलते हो आग चाहत की जलाकर क्यों 
बुझाते हो आग चाहत की सर्द रातों में भी तपन का
 एहसास रहे हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की


कीमतें गिर जाती हैं अक्सर खुद की किसी 
को कीमती बनाकर अपना बनाने में


Shayari With Hindi 



फिर से बेटी न बर्बाद होती कोई 
बात ऐसी उन्हें याद होती कोई 
वो समझते फिर औलाद के दर्द को
 काश उनके भी औलाद होती कोई
Hindi Shayari 


वह शख्स जिस पर लुटाई थी जिंदगी अपनी
 बिना सलाम किये सामने से गुजरा है


हर मुश्किल से जो उलझ गया
 समझो वह सबसे आगे निकल गया


आंधी चली थी कल रात इंल्जामों की 
सुबह रिश्ता बिखरा बिखरा सा मिला


सौदा कुछ ऐसा किया तेरे ख्वाबों ने मेरी 
नींद से या तो दोनों आते हैं या कोई नहीं आता


मैंने तो देखा बस एक नजर के खातिर तुम्हे है
 मुझे क्या खबर थी रग रग में समा जाओगे तूम



कभी टूटा नहीं दिल से तेरी याद का रिश्ता 
गुफ्तगू हो ना हो ख्याल तेरा ही रहता है


सुलगती रहे यह इश्क की आग यूं ही 
अरमानों को दफन रहने दे सीने में मेरे


रंग सारे सज जाते हैं इन पर यह
 सावली लड़कियां बड़ी दिलकश होती है


बहुत से लोग चाहते हैं मुझे 
कोई बहुत चाहे  तो बात बने


कुछ लड़के होते हैं इतवार जैसे सुकून से भरे हुए जिनके 
कंधे पर सर रखकर आप हाल-ए-दिल कह सकते हो


कौन कहता है छलनी में पानी रुक नहीं सकता 
अपना हौसला बर्फ जमने तक बनाए रखना

Hindi Shayari 







Previous
Next Post »

Please do not enter any spam link in the comment box. ConversionConversion EmoticonEmoticon