Breakup Shayari - ब्रेकअप शायरी

 Breakup Shayari -  ब्रेकअप शायरी 


मांगना ही छोड़ दिया हमने वक्त से क्या 
पता उसके पास इनकार का भी वक्त ना हो






मैंने कभी किसी को आजमाया नहीं जितना 
प्यार दिया उतना कभी पाया नहीं किसी को
 हमारी भी कमी महसूस हो शायद
 खुदा ने मुझे ऐसा बनाया नहीं



मोहब्बत खूबसूरत होगी किसी और दुनियां 
में इधर तो हम पर  जो गुजरी है हम ही जानते हैं



आपको बिना बात के ही रूठने की आदत है 
किसी अपने का साथ ना पाने की आदत है 
आप हमेशा खुश रहो मेरा क्या है दोस्तों मैं 
आइना हूं मुझे तो टूटने की आदत है




किसी ने पूछा इतना अच्छा कैसे लिख लेते हो मैंने 
कहा दिल तोड़ना पड़ता है लफ्जों को जोड़ने से पहले



बेवफा कह के बुलाया तो बुरा मान गए
 आईना सामने आया तो बुरा मान गए
 उसकी हर रात गुजरती है दिवाली की
 तरह हमने एक दीया जलाया तो बुरा मान गए



मीठी मीठी यादों को दिल में सजा लेना 
साथ गुजारे पल को पलकों में बसा लेना 
दिल को फिर भी न मिले सुकून तो
 मुस्कुरा कर मुझे अपने सपनों में बुला लेना



आदत नहीं किसी को धोखा देने की नहीं 
तो हमारा नाम भी बेवफा में शामिल होता



हर किसी के नसीब में कहां लिखी होती है
 चाहत है कुछ लोग दुनिया में आते हैं 
सिर्फ तन्हाइयों के लिए


मंजिलें मुश्किल थी पर हम खोए नहीं थे
 दर्द था दिल में पर रोए नहीं थे कोई नहीं
 आज हमारा जो हमसे पूछे जाग रहे हो 
या किसी के लिए सोए नहीं



ज्यादा कुछ नहीं बदला उसके और मेरे
 बीच पहले नफरते थी और अब  प्यार नहीं है



अक्सर नशा हमें हो जाता है और 
इल्जाम शराब पे आता है कसूर तो 
उस जाम का नहीं दोस्तों कसूर तो 
उस चेहरे का है जो हमें हर जाम में नजर आता है


Breakup Shayari in Hindi 


कदर कर लो उनकी जो तुमसे
 बिना मतलब की चाहत करते हैं 
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम 
और तकलीफ देने वाले ज्यादा होते हैं

Breakup Shayari


कितनी आसानी से कह दिया तुमने कि बस अब 
तुम मुझे भूल जाओ साफ साफ लफ्जो में कह दिया
 होता कि बहुत जी लिए अब तुम मर जाओ



आदत नहीं हमें किसी को धोखा देने की 
नहीं तो मेरा भी नाम धोखेबाज में आता



रोज एक नई तकलीफ रोज एक नया गम 
ना जाने कब ऐलान होगा कि मर गए हम



खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे जिस
 दिन जिंदगी में हमारी कमी पाओगे



बारिश के बाद तार पर टंगी आखरी 
बूंद से पूछना क्या होता है अकेलापन



अब क्या बताएं किसी को यह क्या सजा है 
इस बेनाम खामोशी की क्या वजह है



एक सफर ऐसा भी होता है दोस्तों
 जिस में पैर नहीं दिल थक जाता है


तकलीफ यह नहीं कि किस्मत ने मुझे धोखा 
दिया मेरा यकीन तुझ पर था किस्मत पर नहीं



चलो माना तुम्हारी आदत है तड़पाना 
मगर जरा सोचो अगर कोई मर गया तो


दुख तो अपने ही देते हैं वरना गैरों को कैसे 
पता कि हमें तकलीफ किस बात से होती है


Breakup Shayari in Girlfriend



फिर किसी मोड़ पर मिल जाऊं तो मुँह फेर  लेना
 तुम पुराना इश्क हूं फिर उभरा तो कयामत होगी

Breakup Shayari



जिस जिस ने मुहब्बत में अपने महबूब को खुदा कर दिया
 खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए उसको जुदा कर दिया



तेरी बेरुखी ने छीन ली शरारते मेरी 
और लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूं




छोड़ो ना यार क्या रखा है सुनने सुनाने 
में किसी ने कसर नहीं छोड़ी दिल दुखाने में



ऊपर वाला भी अपना आशिक है
 इसलिए तो किसी का होने नहीं देता



कल रात मैंने अपने सारे गम कमरे की दीवार पर
 लिख डाले बस फिर हम सोते रहे और दीवारें रोती रहे



मैंने पूछा कैसे जान जाते हो मेरे दिल की बातें
 वह बोला जब रूह में बस्ती हो फिर यह सवाल क्यू



बहुत भीड़ है मोहब्बत के शहर में एक
 बार जो बिछड़ा वापस नहीं मिलता


मीठी रातों में धीरे से आ जाती है 
एक परी कुछ खुशी के सपने लाती है 
परी कहती है कि सपनों के सागर में डूब 
जाओ भूलकर सारे दर्द जल्दी से सो जाओ



ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी 
धूप ऐसी थी  के साय को भी जलते देखा 
बस तेरी यादों से ही है तारीफ मेंरी वरना 
यह सारा जहां तो मुझे अजनबी सा लगता है



आदत नई हमें पीछे वार करने की दो 
शब्द कम बोलते हैं पर सामने बोलते हैं


परेशान दिल को और परेशान न कर अगर इश्क है
 तो इश्क कर प्यार का नाम लेकर दिल से खिलवाड़ न कर




लिखना तो ये था कि खुश हूं तेरे बगैर भी और 
कलम से पहले आंसू कागज पर गिर गया



क्या चाहूं रब से तुम्हें पाने के बाद किसका करूं 
इंतजार तेरे आने के बाद क्या मोहब्बत में जान 
लुटा देते हैं लोग मैंने भी यह जाना इश्क करने के बाद



दुआ करना  दम उसी दिन निकले
 जिस दिन तेरे दिल से हम निकले


गर शौक चढ़ा है इश्क का तो इम्तिहान देना 
तुम बारिश में भी मेरे अश्कों को पहचान लेना तुम


मोहब्बत की शतरंज में वो बड़ा चलाक निकला 
दिल को मोहरा बनाकर हमारी जिंदगी छीन ली



काश हमसे भी कोई सच में प्यार करती मैं 
रूठता एक बार  और ओ फोन हजार करती



लाख हसीन है इस दुनिया में तेरी 
तरह पर क्या करें हम तो तेरी रूह से प्यार है


क्या पता कि मोहब्बत हो जाएगी हमें 
तो बस तेरा मुस्कुराना अच्छा लगा



मुस्कुरा कर देखो तो सारा जहां रंगीन है वरना 
भीगी पलकों से तो आईना भी धुंधला नजर आता है



इंतजार रहता है हर शाम तेरा याद करती है ले  ले लेकर
 नाम तेरा मुद्दत से बैठे हैं ये आस आप पाले 
कि आज आएगा कोई पैगाम तेरा



जब से वो मशहूर हो गए हैं 
हम से कुछ दूर हो गए हैं


झूठी मोहब्बत वफा के वादे साथ निभाने की कसमें 
कितना कुछ करते हैं लोग सिर्फ वक्त गुजारने  के लिए


एक खूबसूरत सा रिश्ता खत्म हो गया 
हम दोस्ती निभाते रहे और उसे इश्क हो गए



जिंदगी में उसे ठोकर के सिवा कुछ ना मिले 
जिस तरह उस ने मुझे ठुकराया है भगवान 
करे उसे भी किसी से बेवफाई मिले


साथ भी अकेला राह भी अकेली
 कैसी है यह मोहब्बत की पहेली


कोई भी रिश्ता अधूरा नहीं होता बस 
निभाने की चाहत और दोनों तरफ होनी चाहिए


पानी नहीं देना तो पेड़ क्यू लगाया
 मोहब्बत नहीं करना तो दिल क्यू लगाया


वो मेरा वहम है कि मैंने उसे अपना हमसफर समझा
 वो चलता तो मेरे साथ था पर किसी और की तलाश में


मुझे ढूंढने की कोशिश अब न किया कर 
तूने रास्ता बदला तो मैंने मंजिल बदल ली

Breakup Shayari




Previous
Next Post »

Please do not enter any spam link in the comment box. ConversionConversion EmoticonEmoticon