BEST SHAYARI

   BEST SHAYARI    

तुम्हारा दिल मिरे दिल के बराबर हो नहीं सकता                 वो शीशा हो नहीं सकता ये पत्थर हो नहीं सकता                                                                                                                                                                              दाग़ देलहवी 

   BEST SHAYARI




   दर्द हो दिल मे तो दवा कीजे                                     और जो दिल ही न हो तो क्या कीजे                                                                                                                                                                    मंजर लखनवी 
                           

जब भी पहलु से यार उठता है                                      दर्द बे-इख़्तियार उठता है                                                                                                                                                                     मीर ताकि मीर  


इश्क ने 'ग़ालिब' निकम्मा कर दिया                                वर्ना हम भी आदमी थे काम के                                                                                                                                                                मिर्ज़ा ग़ालिब  


कोई समझे तो एक बात कहूँ                                                इश्क तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं                                                                                                                                                                    फ़िराक़ गोरखपुरी



इश्क जब तक न कर चुके रुस्वा                                         आदमी काम का नहीं होता                                                                                                                                                                    जिगर मुरादाबादी 



 सितारों से आगे जहॉ और भी है                                   अभी इश्क के इम्तिहाँ और भी है                                                                                                                                                          अल्लामा  इक़बाल  


आप पहलू में जो बैठे तो सॅभल कर बैठे                                  दिल -ए -बेताब को आदत है मचल जाने की                                                                                                                                                                  जलील मानिकपुरी 

उल्टी हो गई सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया            देखा इस बीमारी -ए -दिल ने आखिर काम तमाम किया                                                                                                                                                                                मीर ताकि मीर

दिल को तिरि चाहत पे भरोसा भी बहुत है                   और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता                                                                                                                                                                                अहमद फ़राज़ 


Previous
Next Post »

Please do not enter any spam link in the comment box. ConversionConversion EmoticonEmoticon